इस महिला ने बचाया देश को अपराधी एम पी और एम एल ए से

0
41

एक महिला जिसने देश के एम पि और एम एल ए की ऐसी की तैसी करदी। कैसे बताते है एक ज़माना था जब क्रिमिनल राजनीतिज्ञ को भी चुनाव लड़ने का हक़ था,बात तो गलत थी लेकिन सदीओ से चली आ रही थी क्युकी देश का नागरिक होने के नाती राइट ऑफ़ रिप्रजेंटेशन और राइट टु होल्ड ऑफिस दो एहम अधिकार है और इसी अधिकार का फ़ायदा उठाते थे कुछ गुनहगार नेता भी लकिन कब तक अपने ही देश को कोई गुनेहगार द्वारा चलता देखता? तब आई सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट लिली थॉमस, लिली जी ने सुप्रीम कोर्ट में पेटिशन फाइल की ताकि विधान मंडल जिन्हे २ या उससे ज़्यादा साल की सज़ा है वे इलेक्शन ना लड़ पाए अपने पेटिशन में थॉमस ने सुप्रीम कोर्ट की मदद से सेक्शन 8 (4 ),रेप्रेसन्टेशन ऑफ़ पीपल एक्ट ,1951 को असंवैधानिक ठहराया बहुत बार पेटिशन रिजेक्ट भी हुई लेकिन कहते है न जहा चाह वहा राह २ और कोशिशे और 9 साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई 2013 में इस निर्णय को पास कर दिया। जजमेंट के अनुसार कोई भी एम पि या एम एल ए तुरंत डिसक्वालिफाई हो जाएंगे। यदि उनपर कोई क्रिमनला केस चल रहा हो लालू प्रसाद यादव और लेट जे जयललिता भी इसी वजह से इलेक्शन नहीं लड़ पा आपके हिसाब से सबसे बड़ा गुन्हेगार मंत्री कौन है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here