भारतीय पुरुषों द्वारा महिलाओं के लिए की गई अभद्र बातें

0
73

 

जादवपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर ने महिलाओं के लिए अभद्र टिप्पणी दी। प्रोफ़ेसर कनक चंद्र ने फेसबुक पर पोस्ट करते हुए कहा की “कौमार्य सीलबंद बोतल की तरह होता है।” हालांकि उन्होंने ये पोस्ट डिलीट कर दी लेकिन अपने बयान से वो पीछे नहीं हटे। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब इस तरह की अभद्र टिप्पणी किसी ने दी है। साल 2014 में समाजवादी पार्टी के चीफ मुलायम सिंह यादव ने भी बलात्कार पर सज़ा मिलने का विरोध कर कहा था “लड़के लड़के हैं, गलती हो जाती है।”

टीएमसी के एमपी तापस पाल की भी एक वीडियो वायरल हुई थी जिसमें वो विपक्ष की महिलाओं की बलात्कार करने की बात कर रहे हैं। कई बार सोशल मीडिया पर भी महिलाओं को अभद्र टिप्पणियों का सामना करना पड़ता है। कुछ लोगों ने तापसी पन्नू के एक तस्वीर पर कम कपड़े पहने के लिए अभद्र टिप्पणी की थी। सोशल मीडिया पर भी अंजान लोग घटिया टिप्पणी देने से बाज़ नहीं आते फिर चाहे वो कपड़ों के बारे में हो या बॉडी टाइप के बारे में। साल 2016 में दयाशंकर सिंह, उत्तर प्रदेश में पार्टी उपाध्यक्ष ने पूर्व मुख्यमंत्री मायावती को “वेश्या से भी बदतर” बताया था। क्या भारत में एक महिला होना श्राप है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here