बॉलीवुड के नकलची गाने

0
78

 

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है की बॉलीवुड बाबा को ये क्या हो रेला है ?नकलची पोस्टर ,नकलची फिल्म और रीमिक्स ही रीमिक्स आखिर क्रिएटिविटी को हो क्या गया है यहाँ? सिम्बा में नई हेरोइन के लिए नया तक नहीं बनाया। 1996 से आँख मारे ओ लड़की आँख मारे बजे जा रहा आँख लटक जाएगी रे बाबा।

हर बार अनु मलिक की बजाते रहो।लेकिन आखिर में फिल्म में तो यही बजता है उची है बिल्डिंग गाना ” बिजली गिराने मैं हूँ आई “कितने लोग आएँगे रे बाबा ? बिजली गिरा गिरा के मारने का प्लान है क्या ?चौथे गाने ने तो मेरी ही वाट लगादी ।“आज फिर तुमपे प्यार आया है” ।इस गाने की उम्र कितनी भी हो जाए। जज साहब ये तब भी थरकी था, आज भी थरकी है। 1980 की फिल्म क़ुरबानी का ये गीत लैला मैं लैला।आज तक कोई मिल पाया भी इस मोहतरमा से अकेला 20 साल पहले पैदा हुए बच्चो को लांच करते जाओ। 10 -10 साल पहले के गाने के रीमिक्स बनाते जाओ आपको क्या लगता है दोस्तों ?क्या बॉलीवुड की क्रिएटिविटी मर चुकी है। या हो चुके है वो बेहद आलसी ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here