कैसे बेटे की मौत ने जगजीत सिंह की जिंदगी बदल दी

0
82

 

ग़ज़लों के राजा जगजीत सिंह अपने गहरे और भावपूर्ण गीतों के लिए जाने जाते थे। उनकी ज़िन्दगी उनके ग़ज़लों की तरह ही मधुर थी। 1967 स्टूडियो में रिकॉर्डिंग के दौरान उनकी मुलाकात चित्रा दत्ता से हुई जो खुद भी ग़ज़लों की रानी थीं। जगजीतजी और चित्रा ने साथ काम किया इस दौरान दोनों के बीच प्यार हुआ और 1969 में दोनों ने शादी कर ली। शादी के बाद उन्हें एक बेटा हुआ जिसका नाम उन्होंने विवेक रखा।

लेकिन जगजीतजी की ख़ूबसूरत दिखने वाली ज़िन्दगी ने करवट बदल ली और 1990 में उन्होंने बेटे को कार दुर्घटना में खो दिया। इस घटना ने उनकी ज़िन्दगी बदल दी जगजीत जी पूरी तरह से टूट गए। घटना के बाद उन्होंने 6 महीने तक कुछ नहीं कहा जिसके बाद इस दर्द को उन्होंने अपने गाने में उतार दिया। बेटे की मौत के बाद उन्होंने सजदा, सिलसिले जैसे गीत गाए। उनकी मृत्यु 2011 में 2 हफ्ते कोमा में रहने के बाद ब्रेन हैमरेज से हुई। जगजीत सिंह की कौन सी गीत आपकी पसंदीदा है ?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here