मुर्दा रॉकेट अब होंगे ज़िंदा

0
66

कौन कहता है जो दुनिया से चला गया वो कभी वापस नहीं आता ?जी हाँ, ISRO अब स्पेस चले गए रॉकेट के अंतिम चरण का इस्तेमाल करेंगे अंतरिक्ष प्रयोग के लिए। जनवरी 2019 में PSLV C44 रॉकेट लॉन्च के दौरान इस नई तकनीक का प्रदर्शन होगा ISRO के चेयरमैन के मुताबिक़ इस तकनीक से बे जान PSLV में जान फूंकी जाएगी स्पेस में नए प्रयोग के लिए ये एक प्रभावी लागत तरीका होगा। अलग से नए रॉकेट भेजने की ज़रुरत अब नहीं पड़ेगी।
आपको बतादे ISRO के चेयरमैन के मुताबिक भारत एक मात्र देश है जो इस टिक्नॉलजी पर काम कर रहा है। इससे स्टूडेंट और स्पेस वैज्ञानिक इसके बाद मुफ़्त में अंतरिक्ष प्रयोग कर पाएंगे। क्या ये मिशन कामयाब होगा ?आपको क्या लगता है ?

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here